50 हजार रुपये तक का बकाया अल्पकालीन ऋण माफ करने की घोषणा

50 हजार रुपये तक का बकाया अल्पकालीन ऋण माफ करने की घोषणा

वर्ष 2013 में सुराज संकल्प यात्रा के दौरान जब मैं प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों का दौरा कर रही थी तो मैंने किसानों की समस्याओं को भी नजदीक से देखा और पाया कि हमारा अन्नदाता आजादी के बाद से लगातार पिछड़ता ही जा रहा है। वास्तव में किसानों की इस हालत के लिए गत कांग्रेस सरकार जिम्मेदार थी, क्योंकि वर्ष 2003 से लेकर 2008 तक हमने किसानों के हित में जो फैसले लिये थे। उनके सुखद परिणाम जैसे ही धरातल पर दिखने लगे सत्ता के मद में मदहोश कांग्रेस सरकार ने एकाएक हमारी योजनाओं को बंद कर दिया और कोरे वादों में ही अपने 5 साल गंवा दिये। अतः सुराज संकल्प यात्रा के दौरान ही मैंने निर्णय कर लिया था कि मुझे चाहे कुछ भी करना पड़े, किसानों की खोयी मुस्कान लौटाकर ही रहूंगी।

नतीजतन यह हमारे सुदृढ़ इरादों का ही परिणाम है कि राज्य सरकार किसानों के हित में ऐसे फैसले ले रही है जो देश की आजादी के बाद किसी राज्य सरकार द्वारा पहली बार लिये जा रहे हैं। किसानों को कर्ज से राहत दिलाने के लिए इस बार के बजट में मैंने सहकारी बेंकों से जुड़े प्रत्येक लघु, सीमांत एवं अन्य कृषकों का 50 हजार रुपये तक का बकाया अल्पकालीन ऋण माफ करने की घोषणा की थी, जिसका शुभारंभ आज वागड़ की पावन धरती से किया जा रहा है। एक एेतिहासिक प्रयास – इसके तहत प्रदेश के करीब 30 लाख किसानों का 8 हजार 415 करोड़ रुपये का ऋण माफ किया जाएगा।

इससे बांसवाड़ा जिले के 1 लाख 9 हजार किसानों का 250 करोड़ रुपये का फसली ऋण माफ होगा। वहीं उदयपुर संभाग की बात करें तो करीब 4 लाख किसानों का 1 हजार 50 करोड़ रुपये से ज्यादा का फसली ऋण माफ किया जाएगा। इसके अलावा हमारी सरकार ने किसान सहकार दुर्घटना बीमा की राशि जो कांग्रेस के समय 50 हजार रुपये थी उसे 20 गुना बढ़ाकर 10 लाख रुपये कर दिया है।

मैं प्रदेश के सभी किसान भाई-बहनों को एक बार फिर विश्वास दिलाती हूं कि मेरी हर सांस और जीवन राजस्थान के सर्वांगीण विकास और अन्नदाता के कल्याण को समर्पित है। अतः हमारे कल्याणकारी फैसले तब तक जारी रहेंगे, जब तक कि प्रदेश का हर एक किसान समृद्ध नहीं हो जाता।

Share this post